Sexually Transmitted Diseases

Aliquam in elit vel eros tincidunt pulvinar sit amet
  • Homepage
  • Sexually Transmitted Diseases

Sexually Transmitted Diseases Dr. Anil Gaikwad Surat

STDs are also called venereal diseases. They are caused by germs that live on the skin or in body fluids such as semen, vaginal fluid or blood. The germs are passed from an infected person often through sexual contact with skin, blood or body fluids. These germs can enter the body through the vagina, mouth, anus and open sores or cuts. STDs are not spread by casual contact, by being in swimming pools or by sitting on toilet seats.

Sexually Transmitted Diseases

  • Signs of STDs

    Signs may occur days, weeks or months after exposure. Some men and women have no signs but have a STD and can pass it onto others

    Common signs include:
    • Burning with urination
    • Genital ulcers such as open sores or blisters
    • Warts
    • Skin rash
    • Discharge from the penis or vagina
    • Abdominal pain, most often in women

  • Types of STDs

    The most common types of STDs are:
    • Gonorrhea
    • Syphilis
    • Herpes
    • Chlamydia
    • Hepatitis (HBV)
    • Human Immunodeficiency Virus (HIV)
    • Human Papilloma Virus (HPV or genital warts)
    • Chancroid
    • Trichomoniasis

Sexually Transmitted Diseases

यौन- संचारी रोगो (एसटीडीओ) को रतीज बीमारिया भी कहा जाता हे | ये उन रोगाणु ओ से होते हे जो त्वचा पर या शरीर के तरल पदार्थ जेसे वीर्य, योनिक तरल पदार्थ या खून मे रहते हे | ये रोगाणु किसी संक्रमित व्यक्ति से त्वचा, खून या शरीर के तरल पदार्थो से यौन संपर्क के माध्यम से दूसरे व्यक्ति मे पहुच जाते हे | ये रोगाणु शरीर मे यौनी, मूह, गुदा ओर खुले घावो या छिली हुई त्वचा से दाखिल हो सकते हे| एसटीडी अनॉपचारिक संपर्क, स्वीमिंग पूल मे होने से या टॉयलेट सीट पर .बेठने से नही फैलते

  • एसटीडी के लक्षण

    लक्षण एक्सपोजर के बाद दिन, सप्ताह या महीनों में हो सकते हैं। कुछ लोग और महिलाओं के पास कोई संकेत नहीं है, लेकिन एसटीडी है और इसे दूसरों पर पास कर सकते हैं
    आम लक्षणों में शामिल हैं:
    • पेशाब के साथ जलन
    • खुजली घावों या छाले जैसे जननांग अल्सर
    • मस्सा
    • त्वचा पर ददोरे
    • शिश्न या योनि मे से स्खलन
    • खास कर स्त्रियो को पेट मे दर्द

  • एसटीडी के प्रकार

    एसटीडी के सबसे आम प्रकार हैं:
    • गोनोरिया या सूजाक
    • सिफलिस
    • हर्पिस
    • क्लामिडी